who is Narendra Modi ???

1- मेहनत और आत्मविश्वास
सफलता कभी दान में या गिफ्ट में नहीं मिलती उसके लिए मेहनत करनी पड़ती है। मोदी की सफलता का भी सबसे बड़ा राज मेहनत ही है। बचपन से लेकर अब तक उन्होंने लगातार मेहनत कर उन्होंने मुकाम हासिल किया है। चुनाव के समय वह केवल 3-4 घंटे सोते थे और प्रधानमंत्री बनने के बाद भी वह 18 घंटे लगातार काम करते है। मेहनत आत्मविश्वास बढ़ता है और सफलता के सभी रास्ते खुल जाते है। मुसीबतों से न डरने वाले लोग हमेशा प्रेरित एंव उत्साहित रहते हैं।

2- व्यवहार कुशलता और सही समय पर निर्णय लेने की कला 
अच्छा बोलने वाले मिर्ची भी बेच देते हैं और मिट्टी भी लेकिन कड़वा बोलने वालों की जलेबी भी नहीं बिकती। नरेंद्र मोदी जी की वाणी बुलंद है एंव उनके पास गज़ब की बोलने की कला है। मोदी जहां भी जाते है वहां के हो जाते हैं, वो राजस्थान जाते हैं तो वहां की विशेषताओं की बात करते हैं, बिहार जाते हैं तो वहां की समस्याओं पर बात करते हैंं। साथ ही नरेंद्र मोदी अपने पहनावे पर विशेष ध्यान देते हैं। यही कारण है कि वे स्टाइल आइकॉन बन चुके हैं। मोदी जब जनता के सामने बोलते हैं तो वे जनता की बात करते है और तेज आवाज से बोलते है और जब विदेशों के प्रमुखों के साथ बातचीत करते है तो शांतिपूर्ण तरीके के साथ बातचीत करते हैं।

3- सकारात्मक, आशावादी और रचनात्मक सोच
पीएम नरेंद्र मोदी सकारात्मक व आशावादी सोच रखते हैं एंव आशावादी बनने की सलाह देते हैं। वे motivational बातें करते हैं, दूसरों को प्रेरित करते हैं। Modi आलोचनाओं की बिल्कुल परवाह नहीं करते और आलोचनाओं को मुंह तोड़ जवाब देते हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रचनात्मक रूप से सोचते हैं और रचनात्मकता को बढ़ावा देते हैं। वे हमेशा समस्याओं के समाधान की बात करते हैं और नए—नए creative ideas पर पहल करते हैंं। उन्होंने लोगों को जोड़ने के लिए www.mygov.nic.in website launch की ताकि जनता के महत्वपूर्ण सुझाव से रूबरू हो सकें। मोदी जी ने चुनाव प्रचार मे भी social media अहम भूमिका थी साथ ही एलईडी लगवाकर एक सा​थ ही व लाइव भाषण देते थे।

4- हमेशा भारत की बात करते हैं नरेन्द्र मोदी 
Narendra Modi अपनी पार्टी से ज्यादा भारत (India First) की बात करते है जो उन्हें अन्य पार्टियों के नेताओं से अलग बनाता है| नरेन्द्र मोदी जानते है कि अगर भारत मजबूत हुआ तो उनकी पार्टी स्वत: मजबूत हो जाएगी, लेकिन अन्य पार्टियों ने इस बात को नहीं समझा और उन्हें इसका खामियाजा लोकसभा चुनाव में भुगतना पड़ा। नरेन्द्र मोदी ने अपनी पार्टी को इस तरह से पेश किया है कि जनता के सामने उनसे अच्छा कोई विकल्प नहीं रहा।

5- परिवर्तन और सबको साथ लेकर चलने की कला
बीते लोकसभा चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी की तुलना करें तो उनमे सबसे बड़ा फर्क यह है कि कांग्रेस ने अपना वही पुराना तरीका अपनाया एंव जनता की भावनाओं को समझ नहीं सकी लेकिन मोदी यह समझ गए कि जनता विकास चाहती है इसलिए Narendra Modi ने अपनी किसी भी रैली में धर्म सम्बन्धी बात नहीं की।
Modi का यह मंत्र “सबका साथ, सबका विकास” आज अमेरिका को भी पसंद आ रहा है| मोदी हमेशा से ही सबको साथ लेकर चलने की कोशिश करते रहते है। आज Modi की सरकार में आपस में कोई मतभेद नहीं है जबकि 2-3 वर्ष पूर्व बीजेपी में ही एक साथ कई मतभेद देखने को मिले थे| Modi की एक खास बात यह भी है की मतभेदों को बाहर आने से पूर्व ही वे उन्हें सुलझा देते है।

6- अनुशासन एवं शारीरिक सक्षमता
Modi की जब से सरकार बनी है वे एक Professional CEO की तरह कार्य कर रहे है एंव अपने सांसदों की निरंतर class ले रहे है एंव उन्हें सख्त हिदायत दे रहे है कि सांसद, संसद की कार्यवाही में भाग ले एंव समय पर संसद पहुंचे। यह उनका अनुशासन ही था कि वे दिन में एक साथ 4-5 रैलियां करते थे एंव 18-20 घंटे मेहनत करते थे। मोदी शारीरिक रूप से फिट नेता है एंव वे इतनी ज्यादा मेहनत करने के बावजूद कभी भी थके हुए नहीं लगते। नरेन्द्र मोदी रोज योग करते हैं और सादा भोजन लेते हैं। वे हमेशा आत्मविश्वास  से भरे हुए रहते हैं।

Posted in Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *